Benefits Of Amla In Hindi | आमला के फ़ायदे

Guys आज हम आमला के फ़ायदे के बारेमे जानेंगे। आंवला एक बहुत ही उपयोगी पेड़ है। आंवला को प्राथमिक फल कहा जाता है। यह स्वाद में थोड़ा खट्टा होता है। इस पेड़ में मार्च और अप्रैल में पत्तियाँ आती हैं। फलों को खेत में एकत्र कर छाया में अच्छी तरह सुखाकर ठंडे स्थान पर रखना चाहिए। इसका फल Sun light में कभी नहीं सुखाया जाता। क्योंकि इसमें मौजूद Vitamin c नष्ट हो जाता है

प्रति 100 ग्राम आंवला जूस में 720 से 921 मिलीग्राम। Vitamin C होता है। इसके अलावा, इसमें 1.2 मिलीग्राम होता है। लोहा, 50 मिलीग्राम। यह कैल्शियम और 20 मिलीग्राम फास्फोरस और कई विटामिन से भरपूर होता है।

Benefits Of Amla In Hindi
Benefits Of Amla In Hindi

Benefits Of Amla In Hindi

1. हरिदा, बहाड़ा और आंवला को त्रिफला कहा जाता है। त्रिफला को रात को पानी में भिगोकर सुबह खाली पेट सेवन करें कब्ज दूर होती है और आंतें साफ होती हैं।

2. यदि गर्म दूध में अमला चूर, मिश्री और शहद मिलाकर लिया जाए तो रति शक्ति बढ़ती है और इंद्रियों को भी राहत मिलती है।

3. अमला के रस के नियमित सेवन से कैंसर जैसे कुछ असाध्य रोग ठीक हो जाते हैं।

4. अगर आपके बाल समय से पहले सफेद हो रहे हैं तो आमला का जूस नियमित रूप से पीने से फायदा होता है।

5. कुष्ठ रोग से छुटकारा पाने के लिए नींबू के पत्ते और आमला को बराबर मात्रा में लेकर दो चम्मच सेतु को सुबह-शाम थोड़े से पानी के साथ खाली पेट 2-4 महीने तक सेवन करने से लाभ होता है।

6. आमला चूर्ण और मेथीचूर्ण को समान मात्रा में मिलाकर सुबह दही और रात को दूध के साथ लेने से बढ़ती उम्र की थकान दूर हो जाती है। शरीर स्वस्थ, बलवान और बलवान बना रहता है। अच्छी नींद आती है।

7. अगर आमला अच्छी तरह से बांटकर नाभि के चारों ओर अच्छी तरह से लपेटकर बीच में रखा जाए तो बहुत गंभीर योनि स्राव भी ठीक हो जाता है।

8. आमला में एंटीसेप्टिक गुण होने के कारण अगर आमला सिझकर उसको कपड़े से धोकर घाव को धो दिया जाए तो कुछ ही दिनों में घाव अपने आप सूख जाएगा और दुर्गंध भी गायब हो जाएगी।

9. अगर शरीर से झाल ज्यादा निकल रहा हो तो आमला को बाटकर शरीर पर लगाएं। यदि हाथों की हथेलियों या पैरों से अधिक स्राव हो रहा हो तो 3 ग्राम चूर्ण दिन में दो बार खाली पेट लेने से लाभ होता है।

10. शहद के साथ आमला जूस मिलाकर पीने से उल्टी बंद हो जाती है।

11. तातका आंवला को मिश्रा या स्वरस 25 ग्राम के साथ एक भाग शहद के साथ सुबह शाम सेवन करने से खैरिया का कड़वापन, खट्टापन और अम्लपित्त दूर हो जाता है।

12. आमला को मुंह में रखने से सर्दी-जुकाम नहीं होता और खांसी-कफ का नाश होता है।

13. अस्थमा होने पर आमला बीजों को करीब 12 घंटे पानी में भिगोकर सुबह के समय पीएं तो ठीक हो जाता है।

14. 300 ग्राम आमला का रस और खुरारा लेकर उसमें 1 चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता है।

15. 10 ग्राम आमला मंजी को रात को पानी में भिगोकर सुबह 70 ग्राम दूध के साथ पीने से सीने की जलन दूर हो जाती है और एक महीने तक खाने से पित्त और सीने की जलन दूर हो जाती है।

16. आमला जूस 25 से 40 मिली. इसे लेकर उसमें आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करने से व्हाइटहेड्स ठीक हो जाते हैं।

17. मानसिक बेचैनी और व्याकुलता से छुटकारा पाने के लिए 20 मिलीलीटर आमला के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर नियमित रूप से सुबह के समय सेवन करें। इससे सर्दी-जुकाम भी ठीक होता है और शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

18. लीवर की कमजोरी और पीलिया को ठीक करने के लिए आमला का पेस्ट बनाकर उसमें शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने का विधान है।

19. पाचन तंत्र में गड़बड़ी होने पर 5 ग्राम आमले को एक दिन पानी में भिगोकर सुबह 70 ग्राम दूध में मिलाकर एक महीने तक सेवन करने से लाभ होता है।

20. कब्‍ज से छुटकारा पाने के लिए 2/3 चम्‍मच अलाचूरन लेकर उसे पानी में भिगो दें और नियमित रूप से कुछ दिनों तक सुबह खाली पेट लें।

21. पित्त के कारण चक्कर आना, मूत्र प्रतिधारण, पेशाब में खून आना, आमला को बाटकर सिर और पेट पर अच्छी तरह से लगाने से आराम मिलता है।

22. सिर या आंखों में जलन महसूस हो तो आमला की ठंडी औषधि को सिर पर 8-10 दिनों तक मालिश करें। यदि आवश्यक हो तो आमला लेकर उसमें घी मिलाकर पीने से हाथ और शरीर की जलन से आराम मिलता है।

23. आंवला के रस, खसखस ​​के मक्खन और शक्कर के साथ सेवन करने से अतिसार और शूल ठीक होता है। तुस्सी के साथ आंवला मंजी बटी पांकले अग्यवत को ठीक करता है।

24. आंवला काढ़े को 2-4 चम्मच बनाकर बच्चों को लगातार पिलाने से खसरे के बाद खूनी निर्वहन जैसे सभी लक्षणों में आराम मिलता है।

25. गठिया, मूत्र पथ के संक्रमण, त्वचा रोग, मधुमेह, मोटापा आदि रोगों में आमला और केले के रस को समान मात्रा में मिलाकर कुछ दिनों तक पीने से लाभ होता है।

26. आंवले को पानी में भिगोकर सिर पर लगाने से नाक से खून आना बंद हो जाता है। साथ ही दिन में 3-4 बार आमला का रस पीने से अच्छे परिणाम मिलते हैं

27. आंवला और गुड़ को बराबर मात्रा में मिलाकर लेने से सिर के सभी रोग जैसे बाल झड़ना और डैंड्रफ दूर हो जाते हैं। यह कब्ज को भी दूर करता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *